अगले वर्ष डाक मंत्रालय द्वारा श्रीमदभगवद गीता पर डाक टिकट जारी करने पर दी सहमति- स्वामी ज्ञानानंद

खाद्य एवं आपूर्ति राज्यमंत्री कर्णदेव कम्बोज ने कहा कि श्रीमदभगवद गीता का संदेश पूरी मानवता के लिए है और इसमें जीवन की शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक स्तर की हर समस्या का समाधान निहित है। उन्होंने कहा कि जीवन हर व्यक्ति के लिए एक कडी परीक्षा है और इस परीक्षा को पास करने के लिए गीता सबसे बेहतर कुंजी है। 
  कम्बोज आज आज रामबाग मैदान अंबाला शहर में आरम्भ हुए तीन दिवसीय जिला स्तरीय गीता जयंती महोत्सव के उदघाटन अवसर पर आयोजित सैमिनार के उपस्थित प्रतिभागियों को सम्बोधित कर रहे थे। इस कार्यक्रम में गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद, सांसद रतनलाल कटारिया, विधायक असीम गोयल, गीता के शोधकर्ता बाबा भूपेन्द्र सिंह पटियाला वाले, सोहन लाल बी.एड कालेज के प्रिंसीपल डा. विवेक कोहली, गुजरात से आए मुलाना नवीब उलफतह ने भी गीता सार पर अपने विचार रखे। 
खाद्य एवं आपूर्ति राज्यमंत्री ने दीपशिखा प्रज्वलित करके सैमिनार का शुभारम्भ किया और श्रीमदभगवद गीता के स्वरूप को पुष्पांजली भेंट की। उन्होंने कहा कि गीता व्यक्ति को अच्छे और बुरे नैतिक – अनैतिक, धर्म और अधर्म का बोध कराती है। हरियाणा वासियों को इस बात का गर्व है कि श्रीमदभगवद गीता की रचना कुरूक्षेत्र की पावन भूमि पर हुई है। प्रदेश सरकार ने गीता जयंती समारोह को अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप दिया है ताकि विश्व के हर व्यक्ति तक गीता का संदेश पहुंचाया जा सके। उन्होंने कहा कि प्रतिवर्ष देश और विदेश के लाखों लोग कुरूक्षेत्र के अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती समारोह में गीता संदेश हासिल करते हैं। उन्होंने इस आयोजन को अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप देने में गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद के प्रयासों की सराहना की। 
गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद ने श्रीमद्भगवद गीता समूचे विश्व में भारत की शांति और सदभावनाओं एवं  परम्पराओं को उदघोषित करने में सक्षम दिव्य ग्रंथ है। उन्होंने कहा कि गीता केवल पूजा एवं पाठ करने की पुस्तक नहीं अपितु जीवन जीने की एक अनूठी पे्ररणा है। उन्होंने कहा कि श्री मदभगवद गीता भारतीय जनमानस के हृदय में निवास करती है और बडे-बडे विद्वान भी गीता जी के अध्ययन के बिना अपने ज्ञान को अधूरा मानते है। उन्होंने कहा कि गीता जयंती के आयोजनों के संदेश से न केवल देश के विभिन्न राज्यों ने सरकारी स्तर पर गीता जयंती उत्सव मनाने की रूची दिखाई है बल्कि मोरिशिश जैसे देशों ने भी इसे सरकारी स्तर पर मनाने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 में संत समाज द्वारा अमेरीका में भी अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि डाक मंत्रालय ने अगले वर्ष श्रीमदभगवद गीता पर डाक टिकट जारी करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि कुरूक्षेत्र रेलवे स्टेशन को भी गीतामयी वातावरण का स्वरूप दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विज्ञान के अविष्कारों के कारण न केवल विभिन्न देशों में आपसी टकराव बढा है बल्कि भौतिकवाद की दौड़ और विज्ञान के अविष्कारों के मुताबिक सुविधाजनक जीवनशैली के कारण समाज, परिवार और मनुष्य के मन-मस्तिष्क में भी टकराव बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि जीवन में आए इस असंतुलन के लिए गीता का अध्ययन जरूरी है और धर्म, जाति व संम्प्रदाय की सीमाओं से उपर उठकर हर व्यक्ति को गीता का अध्ययन करना चाहिए। 
सांसद रतनलाल कटारिया ने इस अवसर पर कहा कि इस आयोजन की न केवल हरियाणा बल्कि भारतीय संसद में भी भरपूर प्रशंसा की जा रही है। उन्होने कहा कि वर्तमान युग तनाव और विभिन्न शक्तियों की आपसी टकराव का युग है और ऐसे में गीता संदेश ही भाईचारे को मजबूत करके परस्पर प्रेम का वातावरण बना सकता है। विधायक असीम गोयल ने कहा कि गीता शंका और समाधान, जिज्ञासा और ज्ञान का अनूठा समावेश है। उन्होने कहा कि गीता सार और गौ भगतों की सरकार ने विश्व के लोगों को गीता के महान संदेश से जोडने के लिए सराहनीय प्रयास किए हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से जन जागरण के साथ-साथ मन जागरण की भी आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष स्वामी ज्ञानानंद जी के प्रयासों से करनाल में बडे स्तर पर गीता प्रेरणा महोत्सव आयोजित किया गया है और इस तरह का आयोजन आगामी वर्ष में अंबाला में किया जाना चाहिए। 
इससे पूर्व स्कूली बच्चों ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की और उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ तथा अतिरिक्त उपायुक्त आर.के. सिंह ने मुख्य अतिथि, सांसद, विधायक व मुख्य वक्ताओं को स्मृति चिन्ह और शाल देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर निगम के संयुक्त आयुक्त सत्येन्द्र दुहन, नगराधीश विरेन्द्र सिंह सहरावत, जीएम रोडवेज कुलधीर सिंह, सिविल सर्जन डा. विनोद गुप्ता, डीआईपीआरओ अमित पंवार, जिला शिक्षा अधिकारी श्रीमती उमा शर्मा, तहसीलदार टी.आर. गौतम, राजेश पूनिया व अन्य अधिकारी मौजूद रहे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *