जयपुर…चित्तौडगढ़…सीकर…बीकानेर।  संजय लीला भंसाली की आनेवाली फिल्म पद्मावती के विरोध में सर्वसमाज और श्रीराजपूत करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने प्रदेश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया।  प्रदर्शनकारियों ने चित्तौड़गढ़ किलें में पर्यटकों के प्रवेश को रोका और बीकानेर, जयपुर, सीकर में फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली के पुतले फूंके।

 चित्तौड़गढ़ में सर्वसमाज के आह्वान पर कार्यकर्ताओं ने आज चितौड़गढ़ दुर्ग के मुख्य दरवाजे पर धरना दिया और किले में पर्यटकों का प्रवेश रोका। श्रीराजपूत करणी सेना सहित सर्वसमाज संगठन के सदस्यों ने विवादित फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग को लेकर आज किले में प्रवेश रोक दिया था।

  जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने बताया कि विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा। सांसद सी पी जोशी भी प्रदर्शनकारियों से मिले थे और उन्होंने प्रर्दशनकारियों की भावनाओं को आगे पहुंचाने का भरोसा दिलाया।

  उन्होंने बताया कि राजस्थान पर्यटन विकास निगम ने पर्यटकों को किसी भी प्रकार की असुविधा से बचने के लिये शाही रेलगाडी ‘पेलेस आन व्हील्स’ को चित्तौड़गढ़ में नहीं रोकने का निर्णय लिया।

  पुलिस अधीक्षक प्रशान कुमार खमेसरा ने बताया कि किले को अधिकारिक रूप से बंद नहीं किया गया था। विरोध प्रदर्शन करने वालों ने हमें सूचित कर दिया था कि पर्यटकों के लिये किलें में आज प्रवेश को रोका जायेगा। किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिये सुरक्षा के पर्याप्त बंदोबस्त किये गये थे।

  चित्तौड़गढ़ के सर्किल अधिकारी गजेन्द्र सिंह ने बताया कि किले में पर्यटकों के लिये प्रवेश 5 बजे तक बंद रहा और शाही रेलगाडी ‘पेलेस आन व्हील्स’ के पर्यटक चित्तौडगढ किला देखने नहीं आये।

जब उनसे किले के आसपास फायरिंग की घटना के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम घटना की जांच कर रहे हैं।
जौहर स्मृति संस्थान के अध्यक्ष और सर्व समाज संगठन के सदस्य उम्मेद सिंह ने कहा कि पडान पोल में फिल्म पद्मावती पर प्रतिबंध लगाने को लेकर पिछले आठ दिनों से धरना जारी है। चित्तौडगढ किले को आज पर्यटको के लिये बंद रखा गया है।
सर्वसमाज संगठन और अन्य संगठनों के फिल्म मे रानी पद्मनी के रूप में कलाकार दीपिका पादुकोण द्वारा किये गये नृत्य को गलत बताया है।
जयपुर के वैशाली नगर के एक मल्टीप्लेक्स के बाहर राजपूत समाज के सर्मथन में सर्वसमाज के सदस्यों ने प्रदर्शन किया और फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली का पुतला फूंका। बीकानेर में बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने तुलसी सर्किल से जिला कलेक्ट्रेट तक एक रैली निकालकर भंसाली का पुतला फूंका और जिला प्रशासन को फिल्म को रिलीज न करने के लिये प्रधानमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा।
वहीं, सीकर में करणी सेना के नेतृत्व में दो स्थानों पर विरोध प्रदर्शन हुए। इस दौरान फतेहपुर और लक्ष्मणगढ कस्बे में जुलूस निकालकर भंसाली का पुतला दहन किया गया। फतेहपुर में करणी सेना के कार्यकर्तायों ने संजय लीला भंसाली के पूतले की शव यात्रा निकालने के बाद भंसाली का पुतला फूंका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *