चण्डीगढ़ – अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग दास गर्ग ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा 211 वस्तुओं पर जीएसटी में टैक्स कम करने की घोषणा करना व्यापार मंडल की प्रयासों की जीत हैं। 

  उन्होंने मांग की है कि केंद्र सरकार 28 प्रतिशत जीएसटी टैक्स के स्लैब को पूरी तरह खत्म करे। क्योंकि विश्व में सबसे ज्यादा 28 प्रतिशत टैक्स का स्लैब भारत देश में हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व वित्तमंत्री अरूण जेटली व केंद्रीय राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने भी माना है कि 28 प्रतिशत जीएसटी बहुत ज्यादा हैं, उसे खत्म करने पर विचार चल रहा हैं। 

   राष्ट्रीय महासचिव बजरंग दास गर्ग ने कहा कि केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली ने बिना सोचे समझे जल्दबाजी में 1 जुलाई 2017 को भारत देश में जीएसटी लागू करके व्यापार व उद्योग पर अंकूश लगाने का काम किया हैं। जबकि अरूण जेटली ने 1 जुलाई 2017 के बाद जीएसटी में बदलाव करने के कई बार यू टर्न ले चुके है मगर अभी भी जीएसटी टैक्स प्रणाली कानून व्यापारियों के लिए सिरदर्द बना हुआ हैं। 
  उन्होंने कहा कि आज भी व्यापारियों को जीएसटी में रिटर्न भरने की बड़ी भारी दिक्कते आ रही हैं। उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की है कि जीएसटी में पूरी तरह सरलीकरण किया जाए। ताकि आम व्यापारी आसानी से लेखा-जोखा रख कर रिटर्न भर सके। उसके साथ-साथ कम से कम 10 करोड़ रूपये की टर्नओवर करने वाले व्यापारियों को पहले की तरह तिमाही रिटर्न भरने का कानून बनाया जाए व टैक्स की दरे जो जीएसटी में 5 प्रकार की है उसे टैक्स फ्री के अलावा टैक्स की दरे दो प्रकार की जाए। पेट्रोल व डीजल पर टैक्स कम करके जीएसटी के दायरे में लाया जाए व जीएसटी कानून में व्यापारियों को सजा का जो प्रवधान रखा है उसे हटाया जाए। 


   राष्ट्रीय महासचिव बजरंग दास गर्ग ने कहा कि जीएसटी टैक्स प्रणाली कानून में पूरी तरह सरलीकरण करने व अन्य व्यापारियों की समस्याओं बाबत 12 नवम्बर 2017 को नरवाना में व्यापार मंडल द्वारा राज्यस्तरीय व्यापारी सम्मेलन रखा गया हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *