हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा देश का ऐसा भी पहला राज्य होगा जहां प्रत्येक नागरिक के शरीर की स्क्रीनिंग की जाएगी, जिसके तहत सभी नागरिकों के घरों में जाकर 35-40 आवश्यक टैस्ट किए जाएंगे। इनका पूरा रिकार्ड स्वास्थ्य विभाग के पास उपलब्ध रहेगा।
   विज आज पंचकूला के सेक्टर एक स्थित रेड बिशप में स्वास्थ्य विभाग द्वारा हेपेटाईटिस-सी पर आयोजित एक प्रशिक्षण कार्यशाला में बोल रहे थे।
उन्होंने कहा कि हेपेटाईटिस-सी (काला पीलिया) के सभी वर्गों के मरीजों का ओरल दवाई से नि:शुल्क उपचार करने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य बना है, जिससे राज्य के लाखों मरीजों को लाभ मिलेगा। 
इसमें राज्य के सभी जिलों के हेपेटाईटिस-सी से संबंधित नोडल अधिकारियों, जिला निगरानी अधिकारियों सहित पीजीआई रोहतक, टाटा ट्रस्ट तथा केन्द्र सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि हरियाणा के किसी भी नागरिक को हेपेटाईटिस-सी की बीमारी से मरने नहीं दिया जाएगा। इसके लिए सरकार ने पहली बार ओरल मेडिसन को सरकारी अस्पतालों में शामिल किया है। यह दवाई राज्य के सभी वर्गों के स्थाई निवासियों को जिला स्तर पर नि:शुल्क उपलब्ध करवाई जाएगी। 
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इसके लिए सरकार ने हेपेटाईटिस-सी के उचित ढंग से संचालन के लिए नोडल अधिकारियों तथा निगरानी अधिकारियों की डियूटी लगाई है, जो कि मरीजों को किसी भी प्रकार की दिक्कतों से बचाने के लिए मुस्तैद रहेंगे। बाजार में इस गोलीनुमा दवाई तथा जांच का कुल खर्च लगभग 28-30 हजार रूपए होता है परंतु हरियाणा सरकार ऐसी ओरल दवाई को अपने लोगों तक नि:शुल्क उपलब्ध करवाएगी। 
    विज ने कहा कि टीकाकरण दवाई से मरीजों को 65 प्रतिशत तक ठीक होने की उम्मीद होती थी जबकि इस ओरल दवा से करीब 98 प्रतिशत मरीजों को लाभ होगा। इससे हम हरियाणा को काले पीलिये से मुक्त राज्य बना देंगे। उन्होंने कहा कि यह बीमारी अधिकतर संक्रमण से फैलती है जिसमें नाईयों का ब्लेड भी कई बार जिम्मेदार सिद्ध होता है। इसके लिए हमारा प्रयास रहेगा कि नाईयों को भी हर ग्राहक के साथ नये ब्लेड से कार्य करने के लिए प्रेरित किया जाए, तभी हम इस भयंकर बीमारी से निजात पाने में पूर्णत: संक्षम होंगे। 
इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित जानकारी उपलब्ध करवाने के लिए माई स्टेट  हैल्थ मोबाईल एप का शुभारंभ किया तथा हेपेटाईटिस-सी से संबंधित विस्तृत जानकारी बारे में स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर नामक पुस्तक का विमोचन भी किया। इस पुस्तक में हेपेटाईटिस-सी के उपचार की पूरी प्रफ्यि दी गई है, जिससे चिकित्सकों तथा मरीजों को लाभ मिलेगा। 
  विज ने कहा कि इससे प्रदेश सरकार को विभिन्न बीमारियों के रोगियों की संख्या तथा विभिन्न क्षेत्रों की जानकारी प्राप्त होगी, जिससे मरीजों को ऑनलाईन रिकार्ड अस्पताल में मौजूद रहेगा। इस प्रफ्यि से राज्य सरकार के पास प्रदेश के लोगों की विभिन्न बीमारियों का डाटाबेस उपलब्ध हो सकेगा।  
इस अवसर पर स्वास्थ्य विभाग के प्रधान अमित झा ने कहा कि विज के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग द्वारा पहली बार प्रदेश में उत्कृष्ट स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं, जिसमें उत्कृष्ट श्रेणी के उपकरण तथा डब्ल्यूएचओ से प्रमाणित दवाईयां मरीजों को निर्शुल्क दी जा रही हैं। 
इस दौरान हरियाणा मेडीकल सर्विस कार्पोरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक डॉ. अमित अग्रवाल, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. सतीश अग्रवाल ने भी अपने विचार रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *