​लखनऊ: उत्तर प्रदेश के रायबरेली के NTPC प्लांट में हुए हादसे में मरने वालों की संख्या 18 से बढ़कर 20 हो गई है. इस घटना में 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे। घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है. एनटीपीसी ने अपने बयान में कहा कि करीब 80 लोगों को संयंत्र में बने अस्पताल में ले जाया गया था। जहां से अधिकतर लोगों को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गयी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों के लिये दो लाख रूपये जबकि गंभीर रूप से घायलों के लिये 50,000 रूपये के मुआवजे का ऐलान किया है। घटना की जांच की जा रही है। वही दूसरी तरफ इस घटना के बाद राहुल गांधी अपना गुजरात दौरा छोड़कर रायबरेली आ रहे हैं।  रायबरेली कांग्रेस के लिए घर जैसा है। सोनिया गांधी रायबरेली संसदीय क्षेत्र से सांसद है।

सोनिया गांधी का संसदीय क्षेत्र है रायबरेली 

सोनिया गांधी इस समय बीमार चल रही है. इस घटना के बाद उन्होंने हादसे पर दुख व्यक्त किया है था। मां के बीमार होने और सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र के नाते कांग्रेस के लिए ये घटना बहुत बड़ी है। इस घटना को देखते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात में चल रही अपनी नवसर्जन यात्रा को विराम देकर रायबरेली आने का ऐलान किया है। वे घायलों और उनके परिवार वालों से भी मिलेंगे। अधिकारियों ने बताया कि एनटीपीसी ने धमाके के कारणों का पता लगाने के लिये जांच शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों के लिये दो लाख रूपये जबकि गंभीर रूप से घायलों के लिये 50,000 रूपये के मुआवजे का ऐलान किया है। 

22 लोगों को लखनऊ रैफर किया गया है

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव (गृह) अरविन्द कुमार ने बताया, ‘‘जिला प्रशासन ने 20 लोगों के मरने की पुष्टि की है।’’प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) आनंद कुमार ने कहा, ‘‘गंभीर रूप से झुलसे 22 लोगों को लखनऊ रैफर किया गया है। 15 अन्य लोगों का रायबरेली के अस्पताल में इलाज चल रहा है। ’उन्होंने कहा कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। प्रमुख सचिव (गृह) ने कहा कि हादसे में 90-100 लोग घायल हुये हैं। रायबरेली जिले की ऊंचाहार तहसील राजधानी लखनऊ से 110 किलोमीटर दूर है। एक बयान में एनटीपीसी ने कहा कि उसके ऊंचाहार संयंत्र की छह नंबर इकाई में शाम करीब साढ़े तीन बजे 20 मीटर की ऊंचाई पर अचानक असामान्य आवाज आई।

सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम ने कहा कि दो नंबर कोने में एक जगह थी जहां से निकली गर्म गैस और भाप ने वहां आसपास के इलाके में काम कर रहे लोगों को प्रभावित किया। 

एनटीपीसी ने अपने बयान में कहा कि करीब 80 लोगों को संयंत्र में बने अस्पताल में ले जाया गया जहां से अधिकतर लोगों को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गयी। केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने सोशल मीडिया के जरिए दुर्घटना में मारे गये लोगों के प्रति गहरे शोक का इजहार किया। सिंह ने बताया कि उन्होंने एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक गुरदीप सिंह को मौके पर पहुंचने का निर्देश दिया है।

 मुख्यमंत्री आदित्यनाथ तीन दिन के आधिकारिक दौरे पर मॉरीशस में हैं

एडीजी कुमार ने कहा कि सभी उपलब्ध एंबुलेंसों को सेवा में लगाया गया और अपर जिलाधिकारी और अपर पुलिस अधीक्षक मौके पर पहुंचकर राहत और बचाव अभियान की कमान संभाल रहे हैं। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ तीन दिन के आधिकारिक दौरे पर मॉरीशस में हैं।उन्होंने अधिकारियों को सभी जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री के साथ यात्रा पर गये प्रमुख सचिव (सूचना) अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने ऊंचाहार की घटना का संज्ञान लिया है और प्रमुख सचिव (गृह) से सुनिश्चित करने को कहा है कि राहत और बचाव के सभी आवश्यक कदम उठाये जायें।

अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने दुर्घटना में हुई मौतों पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक मदद की घोषणा की है। गंभीर रूप से घायलों को पचास-पचास हजार रुपये तथा अन्य घायलों को पच्चीस-पच्चीस हजार रुपये आर्थिक मदद का ऐलान किया है। एक अधिकारी ने बताया कि एनडीआरएफ की टीम राहत और बचाव अभियान के लिए लखनऊ से ऊंचाहार के लिए रवाना हो गयी है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी हादसे पर दुख व्यक्त किया है।
इस बीच उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने ऊंचाहार हादसे में अनेक लोगों के मारे जाने पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। राजभवन के एक प्रवक्ता के मुताबिक राज्यपाल ने हादसे को दुःखद बताते हुए मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की तथा घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है। जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री ने पीटीआई भाषा को बताया कि उपलब्ध सभी एंबुलेंस राहत एवं बचाव कार्य में लगायी गयी हैं।

रायबरेली के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डी के सिंह दस डॉक्टरों की टीम के साथ मौके पर हैं ताकि घायलों का तत्काल उपचार किया जा सके। सिंह ने बताया कि गंभीर रूप से घायलों को लखनऊ के केजीएमयू अस्पताल एवं सिविल अस्पताल ले जाने के इंतजाम कर दिये गये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *