शिमला। विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत के पहले वोटर श्याम शरण नेगी लोकतंत्र के पर्व चुनाव में अपनी पवित्र आहुति डालने के लिए तैयार हैं। खुशी की बात है कि श्याम शरण नेगी शतकवीर हैं और इसी साल जून महीने में उन्होंने अपनी आयु के सौ साल पूरे किए हैं।

प्रशासन करता है रेड कारपेट का इंतजाम

  बता दें कि नौ नवंबर का दिन हिमाचल सहित देश भर के लिए ऐतिहासिक साबित होगा। जनजातीय जिला किन्नौर के कल्पा के तहत चिन्नी गांव के निवासी श्याम शरण नेगी इस समय सौ बरस की आयु में भी चुस्त-दुरुस्त हैं। पूरी उम्मीद है कि वे 9 नवंबर को मतदान करेंगे। मतदान के दिन देश के इस पहले और शतकवीर वोटर के लिए प्रशासन रेड कारपेट का इंतजाम करता है। यानी नेगी का रेड कारपेट वेलकम किया जाएगा। पिछले चुनाव में भी जिला प्रशासन ने उनके सम्मान में रेड कारपेट बिछाया था। चुनाव आयोग ने उन्हें मतदान करने के लिये विशेष तौर पर वाहन भी मुहैया करवाने के बंदोबस्त किए हैं। इस बार भी श्याम शरण नेगी ने जनता खासकर युवाओं से बढ़-चढक़र मतदान करने की अपील दोहराई है। 

​’शतकवीर’ हुए देश के पहले वोटर श्याम शरण नेगी

 आजाद भारत के पहले वोटर श्याम शरण नेगी सौ साल के हो गए। शुक्रवार को नेगी ने अपने चाहने वालों के साथ गर्मजोशी से जन्मदिवस मनाया।

देश के पहले वोटर श्याम शरण नेगी।
किन्नौर जिला के कल्पा के चिन्नी गांव में श्याम शरण नेगी का जन्म 30 जून 1917 को हुआ था। उनके नाम देश के पहले वोटर होने का गौरव दर्ज है। अपने जन्मदिवस पर आयोजित समारोह में चाहने वालों की स्नेहिल भावनाएं देखकर नेगी भावुक हो गए। उन्हें सम्मानित किया गया और केक भी काटा गया। 

इस अवसर पर श्याम शरण नेगी ने देश के प्रति अपने प्रेम का इजहार करते हुए आशा जताई कि भारत विश्वगुरू बनेगा। नेगी लाठी के सहारे चलते हैं, लेकिन उनकी स्मरण शक्ति बिल्कुल दुरुस्त है। नेगी के शतकवीर होने पर आयोजित सम्मान समारोह में कई लोग शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *