सोमवार को हरियाणा विधानसभा के मानूसन सत्र की पहली ही बैठक हंगामेदार रही। प्रश्नकाल शुरू होने से पहले ही विपक्षी दल कांग्रेस ने दादूपुर-नलवी नहर परियोजना को डीनोटिफाई करने के खट्टर कैबिनेट के फैसले को लेकर सदन में बवाल काटा। 


कांग्रेस विधायकों की ओर से इस मुद्दे पर ‘काम रोको प्रस्ताव’ दिया गया था। हालांकि स्पीकर ने इसे मंगलवार के लिए मंजूर भी कर लिया था, लेकिन कांग्रेसी सोमवार को ही इस पर सदन के सभी काम रोककर चर्चा करवाने की मांग पर अड़ गए।
कांग्रेस विधायक जब अपनी सीटें छोड़कर स्पीकर बेल में आकर नारेबाजी करने लगे तो स्पीकर कंवरपाल गुर्जर ने विधायक दल की नेता किरण चौधरी सहित 15 कांग्रेस विधायकों को नेम करके सदन से बाहर निकाल दिया। पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा हंगामा शुरू होने से चंद मिनट पहले ही सदन से बाहर निकल गए थे, सो उन्हें नेम नहीं किया गया। वहीं आदमपुर से विधायक कुलदीप बिश्नोई पहली ही बैठक से नदारद रहे, अलबत्ता उनकी धर्मपत्नी व हांसी से विधायक रेणुका बिश्नोई जरूर सदन में पहुंची।

कैथल से विधायक रणदीप सिंह सुरजेवाला, किरण चौधरी, डॉ़ रघुबीर सिंह कादियान, गीता भुक्कल, करन सिंह दलाल व कुलदीप शर्मा सहित सदन में मौजूद सभी कांग्रेस विधायक दादूपुर-नलवी नहर के मसले पर ‘काम रोको प्रस्ताव’ पर चर्चा कराने की मांग को लेकर अड़ गए।

स्पीकर उन्हें बार-बार समझाते रहे और नियमों का हवाला देकर कहा कि उनका प्रस्ताव मंजूर किया गया है और उस पर मंगलवार को चर्चा होगी, लेकिन कांग्रेस इस पर राजी नहीं हुए।

किरण चौधरी, सुरजेवाला सहित ये विधायक हुए नेम 

स्पीकर ने किरण चौधरी, गीता भुक्कल, डॉ़ रघुबीर सिंह कादियान, रणदीप सिंह सुरजेवाला, उदयभान, ललित नागर, कुलदीप शर्मा, जयतीर्थ दहिया, जगबीर सिंह मलिक, जयवीर वाल्मीकि, श्रीकृष्ण हुड्डा, आनंद सिंह दांगी, डॉ़ रघुबीर सिंह कादियान, शकुंतला खटक व रेणुका बिश्नोई को नेम करके सदन से बाहर निकाला। इन्हें एक दिन के लिए नेम किया है। यानी ये मंगलवार को सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं हो पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *