Indian Army, Surgical Strike in Myanmar: आर्मी के ऑपरेशन में कई नागा आतंकवादी मारे गये हैं। भारत की सेना ने अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार नहीं की है।

भारतीय सेना ने म्यांमार बॉर्डर पर कई आतंकी शिविरों को ध्वस्त किया है। सेना की पूर्वी कमान ने जारी बयान में कहा है कि भारत-म्यांमार बॉर्डर पर आज सुबह तकरीबन पौने पांच पजे सेना की पूर्वी कमान के जवान पेट्रोलिंग कर रहे थे तभी अज्ञात घुसपैठियों ने फायरिंग की। भारत की सेना ने इस हिमाकत का करारा जवाब दिया और दुश्मन के कई आतंकियों को ढेर कर दिया, जबकि कई आतंकवादी घने जंगलों में भाग गये। इस कार्रवाई में सेना को किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ है। ना ही सेना ने भारत-म्यांमार अतंर्राष्ट्रीय सीमा को पार किया है।

सेना के मुताबिक पेट्रोलिंग यूनिट पर हमला करने वाले आतंकी NSCN (खापलांग) ग्रुप के थे। बता दें कि इससे पहले भी इंडियन आर्मी ने म्यांमार में घुसकर भारतीय सेना ने हमला किया था और कई आतंकवादियों को मार गिराये थे।10 जून 2015 को भारत ने भारत-म्यांमार की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर आतंकवादी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक कीथी। 4 जून 2015 को एनएससीएन-खापलांग ने मणिपुर के चंदेल जिले में 6 डोगरा रेजिमेंट के एक भारतीय सेना के काफिले पर हमला किया था और 18 सेना के जवानों को मार दिया। इंडियन आर्मी ने इसी के जवाब में ये सर्जिकल ऑपरेशन किया था। सेना और वायु सेना ने भारत-म्यांमार बॉर्डर क्रास किया दो आतंकवादी कैंप को नष्ट किया। यह अभियान दो स्थानों पर नागालैंड और मणिपुर सीमा पर म्यांमार क्षेत्र के अंदर किया गया था। इस हमले में भारतीय सेना को 40 मिनट का वक्त लगा था। इंडियन आर्मी द्वारा किये गये दावे के मुताबिक इस हमले में 70 कमांडो शामिल थे। इस हमले में सेना ने 158 आतंकवादियों को मार गिराने का दावा किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *