सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के सीनियर वाइस चेयरपर्सन ने स्वीकार किया था कि डेरे 600 कंकाल दफन हैं।

दो साध्वियों के साथ रेप करने पर रोहतक की सुनेरिया जेल में 20 साल की सजा काट रहे बाबा राम रहीम सिंह के सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय में 600 कंकाल दफन होने का खुलासा हुआ है। यह खुलासा डेरे के सीनियर वाइस चेयरपर्सन ने ही किया है। सिरसा पुलिस की एसआईटी ने मंगलवार को डेरे के सीनियर वाइस चेयरपर्सन डॉ. पीआर नैन से पूछताछ की, जिसमें उन्होंने यह बात स्वीकार की है। हालांकि, नैन ने यह भी बताया कि ये कंकाल डेरे के भक्तों ने उन्हें दान दिए थे। साथ ही उन्होंने पुलिस को एक लिस्ट भी सौंपी है, जिसमें डेरे में दफन लोगों का रिकॉर्ड है।

यह खबर आने के बाद एक मां सामने आई है। इस मां का कहना है कि उसने अपना दो महीने का बेटा डेरे को दान दे दिया था। लेकिन 12 साल हो गए, उसने अपना बेटा देखा तक नहीं है। पानीपत की रहने वाली डेरे की पूर्व भक्त महिला ने अंग्रेजी न्यूज चैनल इंडिया टुडे से बात करते हुए बताया, ‘मैं डेरे की कट्टर समर्थक थी। डेरे ने एक विज्ञापन निकाला था कि श्रद्धालु अपने बच्चे डेरा मुख्यालय में सेवा के लिए अपने दान करें। इसके बाद मैंने मेरा दो महीने का बेटा डेरे को दे दिया था। हमने राम रहीम के भरोसे दान किया था। लेकिन अब हमें नहीं पता कि वह कहां है? हमें मिलने से भी मना कर दिया गया था, हमसे कहा गया था कि आप दोबारा अपने बच्चे से नहीं मिलोगे। 12 साल हो गए, आज तक पता नहीं है कि मेरा बच्चा कहा हैं।’
बता दें, डेरे में सर्च ऑपरेशन शुरू होने से एक दिन पहले डेरे के मुखपत्र ‘सच कहूं’ ने भी स्वीकार किया था कि डेरा परिसर में शव दफन हैं। डेरा प्रबंधन का बचाव करते हुए अखबार में यह भी लिखा गया था कि डेरा प्रमुख राम रहीम सिंह ने इन शवों को दान देने के लिए अपने श्रद्धालुओं को प्रेरित किया था, ताकि नदी में फेंकने या जलाने से होने वाले प्रदूषण को रोका जा सके। साथ ही अखबार में यह दावा भी किया गया था कि उन दफन शवों की कब्रों पर पेड़ उगा दिए गए हैं। इसके अलावा राम रहीम सिंह के पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह ने भी दावा किया था कि डेरे में कई लोगों के शव दफन हैं। डेरे में लोगों की हत्या करके वहीं दफन कर दिया जाता है।
डेरा प्रमुख राम रहीम सिंह दो साध्वियों के साथ रेप करने के मामले में रोहतक की सुनेरिया जेल में बंद है। सीबीआई कोर्ट ने डेरा प्रमुख को बलात्कारी करार देते हुए 20 साल की सजा सुनाई थी। साल 2002 में एक साध्वी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री और कोर्ट को एक पत्र लिखा था। इस पत्र में डेरा प्रमुख द्वारा साध्वियों के साथ रेप करने की बात कही गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *