गुरूग्राम/नई दिल्ली, पुलिस ने गुरूग्राम के एक स्कूल में सात साल के बच्चे की निर्मम हत्या के मामले में जांच पूरी कर सात दिन के अंदर आरोपपत्र दाखिल करने का वादा किया।

गुड़गांव के भोंडसी स्थित रयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी कक्षा के सात वर्षीय छात्र की हत्या की घटना से पूरा देश स्तब्ध रह गया था।
जिला प्रशासन ने यह जांच करने के लिए तीन सदस्यीय एक पैनल बनाया है कि क्या कहीं स्कूल ने सुरक्षा मानकों का उल्लंघन तो नहीं किया था।
इस बीच, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली हरियाणा सरकार ने प्रदेश के सभी स्कूलों की सुरक्षा की समीक्षा करने के आदेश दिए हैं।
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने भी मामले में जांच के लिए आज दो सदस्यीय समिति का गठन किया और स्कूल प्रबंधन से दो दिन के भीतर रिपोर्ट मांगी।
बच्चा कल स्कूल के शौचालय में मृत मिला था। उसका गला रेता गया था। बच्चों के अभिभावकों के रोष के बाद सीबीएसई ने जांच समिति बनाने का कदम उठाया है।
गुड़गांव के पुलिस आयुक्त संदीप खीरवार ने दावा किया कि इस जघन्य अपराध में, गिरफ्तार किए गए स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार की संलिप्तता सामने आई है।
उन्होंने बताया कि अशोक कुमार यौन उत्पीड़न करने के इरादे से शौचालय के अंदर किसी छात्र के आने का इंतजार कर रहा था। पीड़ित बच्चा शौचालय में गया। उसने कुमार की हरकत का विरोध किया जिसके बाद कुमार ने उसकी हत्या कर दी। बच्चे का गला कटा हुआ था।
खीरवार ने पीटीआई को बताया ‘‘कुमार ने कहा कि वह डर गया था और यह सोच कर उसने बच्चे को मार डाला कि कहीं वह स्कूल के प्रबंधन को अपराध के बारे में न बता दे। वह चाकू को शौचालय में ही छोड़ गया। वहां से जाने से पहले उसने हाथ भी धोए। यह सुनियोजित तरीके से किया गया अपराध था।’’ उन्होंने बताया कि पुलिस मामले की जांच पूरी कर सात दिन के अंदर आरोपपत्र दाखिल कर देग।
खीरवार ने कहा कि इस मामले में हम शीघ्र सुनवाई के लिए विशेष अदालत गठित करने की मांग करेंगे ताकि आरोपी को कड़ी सजा मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *