अंबाला। करीब साढ़े छह साल पहले 8 अप्रैल 2011 को पंजोखरा में झोलाछाप डॉक्टर द्वारा महिला को लगाए गए गलत इंजेक्शन के बाद उसकी मौत होने के मामले में बृहस्पतिवार देर रात को सिविल सर्जन डॉ. विनोद गुप्ता की सिफारिश पर पंजोखरा के डॉ. केपी सांघा उर्फ राजू क्लीनिक बंगाली पर लापरवाही का मुकदमा दर्ज किया गया है। इस मामले में महिला की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई जांच रिपोर्ट अब आई है, जिसके बाद मामला दर्ज करवाया गया है। शुक्रवार देर शाम तक पुलिस ने आरोपी झोलाछाप डॉक्टर को गिरफ्तार नहीं किया था।

  जानकारी के मुताबिक नागेशवर पासवान निवासी गांव भीमाकोल डॉ. भीमा जिला अररिया बिहार की पंजोखरा में काम करने के दौरान तबीयत खराब हो गई थी। उसके बाद परिजन उसे पंजोखरा स्थित डॉ. केपी सांघा उर्फ राजू क्लीनिक बंगाली के पास लेकर पहुंचे थे। डॉक्टर ने उसे इंजेक्शन लगाकर उसे दो से तीन दिनों के लिए दवाई दी थी। पीड़ित के घर जाने के बाद उसने जब दवाई ली तो कुछ देर बाद ही उसकी अचानक से तबीयत खराब हो गई थी और पीड़ित नागेशवर की 8 अप्रैल 2011 की मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई के लिए हंगामा किया था। उस दौरान पुलिस की मौजूदगी में मृतक का पोस्टमार्टम करवाया गया और मामले की जांच के लिए एक कमेटी बना दी गई थी। तब से लेकर अब तक मामले की जांच चल रही थी जिसमें अब सामने आया है कि डॉक्टर द्वारा जो इंजेक्शन मरीज को लगाया गया और उसे दवाई दी गई थी वह बीमारी के बिलकुल विपरीत थी और वह उसे नहीं दी जानी चाहिए थी। 
 ★ यह काफी पुराना मामला है। साढ़े 6 बरस पूर्व डॉक्टर की यह लापरवाही सामने आने के बाद सीएमओ ने पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज करने की सिफारिश की। जिसके बाद देर रात केस दर्ज किया गया। जल्द ही आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया जाएगा।

– चंद्र प्रकाश, एसएचओ, पुलिस थाना पंजोखरा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *