भारतीय सेना पिछले तीन सालों से सुपर-40 के बच्चों को देश की अति-प्रतिष्ठित आईआईटी में प्रवेश की तैयारी करा रही है।

भारतीय सेना द्वारा  आईआईटी प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए चलाए जा रहे सुपर-40 के नौ कश्मीरी छात्रों ने आईआईटी-जेईई (एडवांस्ड) परीक्षा पास की है। अब ये छात्र देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेजों आईआईटी में प्रवेश ले सकते हैं। भारतीय सेना ने बिहार के सुपर-30 की तर्ज पर सुपर-40 बनाया था। भारतीय सेना पिछले तीन सालों से सुपर-40 के बच्चों को देश की अति-प्रतिष्ठित आईआईटी में प्रवेश की तैयारी करा रही है। भारतीय सेना पिछले कुछ समय से कश्मीर में आंतकवाद निरोधकों अभियानों और पत्थरबाजों से निपटने के तरीको को लेकर सुर्खियों में रही है।

इससे पहले भारतीय सेना के इस साल के सुपर-40 बैच में 26 स्थानीय लड़के और दो लड़कियों ने आईआईटी-जेईई (मेन्स) की परीक्षा पास की थी। आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकालने वाले इन 28 छात्रों में से आईआईटी-जेईई (एंडवांस्ड) में सफलता हासिल की। सुपर-40 के पांच निजी कारणों से आईआईटी-जेईई (मेन्स) में शामिल नहीं हुए थे। सुपर-40 के कुल 35 में से 28 छात्रों के आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकाला। सुपर-40 के 80 प्रतिशत छात्र आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकालने में सफल रहे। इस साल के सुपर-40 की खास बात ये रही कि इस साल पांच लड़कियों ने इसमें शामिल हुई थीं जिनमें से दो ने आईआईटी-जेईई (मेन्स) पास किया।
आईआईटी के अलावा ये छात्र दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया और जामिया हमदर्द विश्वविद्यालय में भी प्रवेश ले सकते हैं। भारतीय सेना द सेंटर फॉर सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी एंड लर्निंग (सीएसआरएल) और पेट्रोनेट एनएलजी के साथ मिलकर श्रीनगर में सुपर-40 की कोचिंग चलाती है। सुपर-40 का मकसद जम्मू-कश्मीर के प्रतिभाशाली और वंचित बच्चों की मदद करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *