बर्मिघम। भारत के हाथों आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी के पहले मैच में मिली हार के बाद पाकिस्तान के मुख्य कोच मिकी आर्थर ने कहा है कि इस हार ने टीम को आईना दिखा दिया और अब टीम को अपने अंदर झांकने की जरूरत है।

भारत ने रविवार को खेले गए मैच में पाकिस्तान को 124 रनों से बड़ी हार दी। इस हार के बाद पाकिस्तान को सेमीफाइनल में जाने के लिए श्रीलंका और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाले मैचों में हर हाल में जीत हासिल करनी होगी।
वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो ने आर्थर के हवाले से लिखा है, “हम काफी खराब खेल खेले। यह हमें आईना दिखाता है कि एकदिवसीय में इस समय हम कहां खड़े हैं।”
मैच के बाद आर्थर ने कहा, “मेरे लिए जो चिंता की बात रही और वो भी शुरू से वो बुनियादी चीजों में ही गलतियां करना। हमने आसान से कैच छोड़े, विकेट के पीछे दौड़ अच्छी नहीं रही। हमने कीपर के हाथ में थ्रो नहीं दी। हमें नहीं पता कि हमारे वैरिएशन को हमें कब उपयोग में लाना है।”
उन्होंने कहा, “हमने अच्छा ओवर किया और आखिरी गेंद बदली हुई डाली जिस पर बाउंड्री पड़ी। इस तरह की छोटी-छोटी चीजों ने मुझे चिंतित कर दिया है।”
आर्थर ने कहा, “मेरा मुद्दा डर का है। मेरा मुद्दा खिलाड़ियों के मैदान पर जाने और मैच अपने पक्ष में करने का है और उन्हें यह विश्वास दिलाने का है कि वह मैच को बदल सकते हैं।”
मैच के दौरान मोहम्मद आमिर और वहाब रियाज चोटिल हो गए थे। रियाज बल्लेबाजी तक करने नहीं उतरे थे।
चोटों के बारे में आर्थर ने कहा, “मैं नहीं जानता कि उन्हें दर्द क्यों हुआ। इसके लिए मुझे मेडिकल टीम के पास जाना होगा। मैच से पहले वहाब पूरी तरह से फिट थे। फिटनेस टेस्ट में वह सफल रहे थे। लेकिन उन्होंने अच्छा बुरा प्रदर्शन किया। लेकिन उन्हें आज बड़ी जिम्मेदारी निभानी थी। मैं इसकी जिम्मेदारी लेता हूं क्योंकि मैंने उन्हें चुना था। मैंने उन्हें चुना था क्योंकि मैं चाहता था कि वह बड़ी जिम्मेदारी निभाएं। लेकिन दुर्भाग्यवश वह ऐसा कर नहीं सके।”
इस हार के बाद भी हालांकि आर्थर ने कहा है कि एक दिन के बुरे प्रदर्शन पर उनकी टीम को आंकना सही नहीं है।
आर्थर ने कहा, “अगर आप हमारे पिछले एक साल के रिकार्ड पर नजर डालें तो हमने दो सीरीज जीती हैं। हां हमारा आज का दिन अच्छा नहीं रहा लेकिन हम हमारा सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश कर रहे हैं। यह एक रात में नहीं होने वाला हम हर दिन कोशिश कर रहे हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *