लंदन। लंदन हमलों में शामिल 3 हमलावरों को पुलिस ने मार गिराया है। शहर के बरो मार्केट में लोगों पर चाकू से हमला करने के बाद आतंकी हमलावरों ने लंदन ब्रिज पर अपनी तेज रफ्तार गाड़ी पैदल चल रहे यात्रियों पर चढ़ा दी। पुलिस ने इसे आतंकी हमला करार दिया है। लंदन पुलिस ने इन दोनों हमलों में 6 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। मृतकों की संख्या का आंकड़ा और बढ़ सकता है। इन दोनों वारदातों में कई लोग घायल भी हुए हैं। 30 घायलों को नजदीकी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। पुलिस का कहना है कि घटना की पहले-पहल जानकारी मिलने के 8 मिनटों के अंदर ही उन्होंने तीनों हमलावरों को मार गिराया। करीब 2 हफ्ते पहले ही ब्रिटेन के मैनचेस्टर में एक पॉप कॉन्सर्ट के दौरान हुए एक आत्मघाती हमले में 22 लोग मारे गए थे। 


खबरों के अनुसार, आतंकियों ने पहले लंदन ब्रिज पर तेज रफ्तार गाड़ी चलाते हुए पैदल लोगों को टक्कर मारी और उन्हें कुचला। मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि हमले के समय आतंकी कम से कम 50 मील प्रति घंटे की रफ्तार से गाड़ी चला रहे थे। इसके बाद हमलावर लंदन ब्रिज से गाड़ी चलाते हुए नजदीके के बरो मार्केट पहुंचे। यहां पहुंचने के बाद आतंकियों ने अपनी गाड़ी छोड़ दी और खुद गाड़ी से बाहर निकलकर लोगों पर अंधाधुंध चाकू से वार करने लगे। चश्मदीदों का कहना है कि आतंकी जिन चाकुओं से लोगों पर वार कर रहे थे, वह देखने में शिकार के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले चाकू जैसा लग रहा था। अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने इन हमलों की जिम्मेदारी नहीं ली है।

इस इलाके से गोलीबारी की आवाज सुनकर हथियारबंद पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने घटनास्थल पर फंसे लोगों से जान बचाकर भागने की अपील करते हुए लिखा, ‘भागो, छुपो और लोगों को बताओ।’ हमलों के बाद कार्रवाई करते हुए पुलिस ने लंदन ब्रिज के पास ही 3 हमलावरों को मार गिराया। कुछ खबरों में यह भी कहा जा रहा है कि पुलिस वारदात में अन्य हमलावरों के शामिल होने की संभावना की भी जांच कर रही है। फिलहाल इन हमलों की जिम्मेदारी किसी आतंकी संगठन ने नहीं ली है। हमले के बाद पुलिस ने पूरे इलाके को सील कर दिया है। 

सेंट्रल लंदन में जिन दोनों जगहों पर हमला हुआ, वहां हमले के समय बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। आम लोगों को पुलिस ने सुरक्षित बाहर निकाला। लंदन ब्रिज पर हुए हमले के चश्मदीदों का कहना है कि उन्होंने 6 लोगों को जमीन पर पड़े देखा। लंदन ऐम्बुलेंस सर्विस ने बताया कि लंदन ब्रिज पर हुए हमले में घायल करीब 20 लोगों को इलाज के लिए 6 अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने इन हमलों की निंदा की है। खबरों के मुताबिक, ट्रंप ने हमले की जानकारी मिलने के बाद ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टरीज़ा मे को फोन कर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट ने कहा है कि वह ब्रिटेन की पूरी सहायता करने को तैयार है। 

लंदन ब्रिज के पास मौजूद रॉयटर्स की एक रिपोर्टर ने बताया कि उसने 10 पुलिस वैन को मौके पर जाते देखा है। वहीं एक अन्य चश्मदीद ने बताया कि हमलावरों की वैन ने 5-6 लोगों को टक्कर मारी है। वारदात को देखते हुए लंदन के अंडरग्राउंड ट्रेन स्टेशन बंद कर दिए गए हैं। वारदात के बाद लंदन के मेयर सादीक खान ने लोगों से अफवाहों पर ध्यान न देने और अधिकारिक जानकारी पर ही भरोसा करने को कहा है। 

ब्रिटेन में 8 जून को चुनाव होने वाले हैं। करीब 2 हफ्ते पहले ही मैनचेस्टर में एक आत्मघाती हमलावर सलमान अबेदी ने अमेरिकी पॉप गायिका आरियाना ग्रांडे के एक कार्यक्रम के दौरान विस्फोट कर 22 लोगों की जान ले ली थी। उसके बाद पुलिस द्वारा की गई जांच में लगातार यह आशंका जताई जा रही थी कि हमलावर अबेदी के बाकी आतंकी सहयोगी सुरक्षा एजेंसियों के हाथ से निकल गए हैं और वे ब्रिटेन में किसी और जगह को भी अपना निशाना बना सकते हैं। इन आशंकाओं के मद्देनजर पूरे ब्रिटेन की सुरक्षा बढ़ा गई थी। मेट्रो और बड़े शहरों के अलावा दूरदराज के इलाकों में भी सुरक्षाबलों को तैनात किया गया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *