अंबाला। एक चार वर्षीय बच्ची को हवस का शिकार बनाने की घटना सामने आई है। इस वारदात को एक पैंतालीस वर्षीय आदमी ने दिया। हवस के भूखे भेड़िये ने हैवानियत का खेल उस समय खेल जब बच्ची घर में अकेली थी। पीड़ित बच्ची के अभिभावक ईंट भट्ठे पर श्रम करते हैं। जब वे वापिस आए और बच्ची को खून से लथपथ रोते बिलखते देखा तो वे तुरंत उसे सहा अस्पताल लेकर गए। इस घटना की सूचना पुलिस को दी गई। बच्ची की नाज़ुक हालत को देखते हुए अंबाला छावनी सरकारी अस्पताल रैफर किया गया। डॉक्टरों ने बच्ची का उपचार किया लेकिन उसकी नाज़ुक हालत देख मेडिकल कॉलेज सेक्टर 32 चंडीगढ़ रैफर कर दिया। 

अंबाला-साहा नेशनल हाईवे पर मिट्ठापुर गांव के पास स्थित ईंट भट्ठे के नजदीक कच्चे कमरे में एक 45 साल के व्यक्ति ने चार साल की बच्ची से दुष्कर्म कर दिया।

मामले की सूचना मिलते ही साहा व महिला थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। पुलिस ने अभियुक्त राजेन्द्र को साहा बस स्टैंड के पास घूमते समय गिरफ्तार कर लिया। महिला थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर बिमला देवी ने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर अभियुक्त के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। बृहस्पतिवार को उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा।
जानकारी के मुताबिक बिहार के जिला व थाना बक्सर निवासी एक परिवार पिछले काफी समय से मिट्ठापुर के पास ईंटों के भट्टे पर काम करता है। कुछ दिन पूर्व ही राजेंद्र निवासी गांव बेला बिग्गा थाना उजारगंज जिला गया बिहार भी यहां अपने अन्य परिजनों के साथ यहां भठ्ठे पर काम करने पहुंचा। 

पीड़ित बच्ची के परिजन अक्सर अपने बच्चों को छोड़कर रात के समय भठ्ठे पर काम करने के लिए चले जाते थे। अभियुक्त कई दिनों से बच्ची पर नजर रखे हुए था। मंगलवार रात जब बच्ची के परिजन काम करने के लिए भट्ठे पर चले गए तो वह उनकी झोपड़ी में घुस गया और सोते समय बच्ची के मुंह पर कपड़ा बांधकर उसके साथ दुष्कर्म किया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *