वध के लिए मवेशियों की बिक्री पर पाबंदी के मुद्दे पर द्रमुक ने आज भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि ऐसे हालात पैदा हो गए हैं कि ‘‘हमें वही चीजें खानी होंगी जो प्रधानमंत्री चाहते हैं।

नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री (फ़ाईल फ़ोटो)

   वध के लिए मवेशियों की बिक्री पर पाबंदी के मुद्दे पर द्रमुक ने आज भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि ऐसे हालात पैदा हो गए हैं कि ‘‘हमें वही चीजें खानी होंगी जो प्रधानमंत्री चाहते हैं । पाबंदी के खिलाफ द्रमुक की ओर से आयोजित प्रदर्शन की अगुवाई करते हुए पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन ने चेतावनी दी कि यदि इस मामले पर हालिया अधिसूचना वापस नहीं ली गई तो :जल्लीकट्टू के पक्ष में हुए प्रदर्शन की तरह: ‘‘एक और मरीना क्रांति’’ होगी ।

एम के स्टॉलिन, डीएमके (फ़ाइल फ़ोटो)
स्टालिन ने आरोप लगाया कि अपनी तीन साल की नाकामी पर पर्दा डालने के लिए केंद्र सरकार ऐसी अधिसूचनाएं ला रही है । उन्होंने इस मुद्दे पर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी की ‘‘चुप्पी’’ पर भी सवाल उठाए । साल 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा की ओर से किए गए विभिन्न वादों की याद दिलाते हुए स्टालिन ने कहा कि काला धन वापस लाने और नौकरियां पैदा करने सहित कोई भी वादा पूरा नहीं किया गया है ।

उन्होंने दावा किया, ‘‘लिहाजा, यह पाबंदी, हम क्या खाते हैं उस पर बंदिशें लगाई जा रही हैं । ऐसे हालात पैदा हो गए हैं कि हम वही खा सकते हैं जो मोदी चाहें । संविधान की ओर से दी गई नागरिक स्वतंत्रता की गारंटी छीनी जा रही हैं । आजादी छीनी जा रही है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *