नई दिल्ली। देश में जीका के पहले तीन मामले सामने आए हैं, जिसमें एक गर्भवती महिला भी शामिल है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, यह तीनों मामले गुजरात के अहमदाबाद में देखने को मिले हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालयने इन तीनों मामलों की पुष्टि कर दी है। पहला मामला जनवरी 2016, दूसरा नवंबर 2016 और तीसरा जनवरी 2017 में सामने आया। ये मामले गुजरात के बापूनगर में दर्ज हुए।
मानक प्रोटोकॉल के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्रालय ने 15 मई 2017 को डब्ल्यूएचओ के संज्ञान में यह मामले दर्ज कराए थे।

  हालांकि भारत सरकार की और से ज़ीका वायरस से लड़ने के लिए अभी तक कोई ख़ास तैयारी नहीं हुई है। अन्य राज्य सरकारों ने भी ज़ीका की रोकथाम और बचाव के लिए कोई पर्याप्त कदम नहीं उठाए हैं।
 विदेशी मुल्कों में ज़ीका वायरस तेजी से फैल रहा है और लोगों ने हड़कम्प मच गया है। 
 एक जानकारी के मुताबिक भारत बायोटेक ने एंटीबायोटिक (एंटी वायरस) तैयार कर लिया है। लेकिन अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *