मुम्बई। टीवी और फिल्मों की मशहूर अभिनेत्री रीमा लागू का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उन्होंने मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में अंतिम सांस ली। कई दशकों तक ‘मां’ के किरदार को जीवंत करने वाली रीमा फिलहाल टीवी सीरियल ‘नामकरण’ में काम कर रही थीं। उन्होंने हिन्दी से लेकर कई मराठी फिल्मों में भी काम किया।


बॉलीवुड में हंसती-मुस्कुराती खुशमिज़ाज मां के किरदारों से लोकप्रिय हुई अभिनेत्री रीमा लागू नहीं रहीं। 59 साल की उम्र में उनका निधन हो गया।
उन्हें सीने में दर्द की शिकायत के बाद मुंबई के अंबानी अस्पताल में दाखिल कराया गया था। रात के एक बजे उनकी मौत हो गई।
उनके दामाद विनय वायकुल ने स्थानीय पत्रकार सुप्रिया सोगले को इसकी जानकारी दी।
वे मराठी और हिंदी फिल्मों का जाना-पहचाना चेहरा थीं। टेलीविज़न की दुनिया में भी वो ख़ासी लोकप्रिय थीं। उन्होंने कई सीरियलों में काम किया।
उन्होंने ‘मैंने प्यार किया’, ‘आशिक़ी’, ‘साजन’, ‘हम आपके हैं कौन’, ‘वास्तव’ और ‘हम साथ-साथ हैं’ जैसी यादगार फ़िल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवाया था।

रीमा लागू ने बॉलीवुड ही नहीं मराठी फिल्मों में भी अपने अभिनय से लोगों का दिल जीता था। बॉलीवुड में रीमा लागू अक्सर संस्कारी मां का किरदार निभाती हुई दिखाई दी हैं, जो कि अपने बच्चों पर भर-भरकर प्रेम लुटाती है और उन्हें समाजिक कृतव्य सिखाती है। रीमा ने सलमान खान और शाहरुख खान जैसे बड़े अभिनेताओं की मां का किरदार निभाया है। रीमा सलमान के साथ करीब 11 फिल्में कर चुकी हैं।

सलमान खान के साथ रीमा लागू ने ‘शादी करके फंस गया यार’, ‘कहीं प्यार न हो जाए’, ‘हम साथ-साथ हैं’, ‘कुछ-कुछ होता है’, ‘दीवाना मस्ताना’, ‘जुड़वा, हम आपके हैं कौन’, ‘निश्चय’, ‘साजन’, ‘पत्थर के फूल’ और ‘मैंने प्यार किया’ जैसी फिल्मों में काम किया। इन फिल्मों में से ज्यादातर फिल्मों में रीमा ने सलमान की मां का किरदार निभाया था। वहीं शाहरुख खान की बात करें तो रीमा ने फिल्म ‘कल हो न हो’ में उनकी मां का किरदार निभाया था। फिल्म ‘वास्तव’ में उन्होंने संजय दत्त, फिल्म ‘कुछ-कुछ होता है’ में काजोल, ‘झूठ बोले कौआ काटे’ में जूही चावला और ‘मैं प्रेम की दीवानी हूं’ में अभिषेक बच्चन की मां का किरदार निभाया था।

रीमा लागू ने करीब 90 बॉलीवुड फिल्मों में काम किया है। 1980-90 के दशक में उन्होंने ज्यादातर फिल्मों में मां का किरदार निभाया था। रीमा लागू ने अपने अभिनय की शुरुआत मराठी फिल्मों से की। उस समय वह एक छात्र थीं। एक मराठी शो करने के बाद उनके अभिनय को पहचान मिली। रीमा ने 1970 में बॉलीवुड और मराठी फिल्मों में अभिनय की शुरुआत की। रीमा की मां मंदाकिनी भड़भड़े भी एक मशहूर थियेटर आर्टिस्ट थीं। रीमा को अभिनय की कला अपनी मां से विरासत में मिली थी। रीमा को उनके बेहतरीन अभिनय के लिए 4 फिल्मफेयर अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *