कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) बृहस्पतिवार को अपना फैसला सुनाएगी। तीन दिन पहले अंतरराष्ट्रीय अदालत ने भारत और पाकिस्तान की दलीलों को सुना था।

सरकारी सूत्रों के अनुसार अंतरराष्ट्रीय अदालत बृहस्पतिवार भारतीय समयानुसार शाम करीब 3:30 बजे अपना फैसला सुनाएगी।

भारत ने अपनी दलील रखते हुए मांग की थी कि जाधव की मौत की सजा को तत्काल निलंबित किया जाए। भारत ने आशंका जताई थी कि पाकिस्तान आईसीजे में सुनवाई पूरी होने से पहले जाधव को फांसी दे सकता है।

जब आईसीजे ने सुनवाई शुरू की तो भारत ने दमदार तरीके से अपने तर्क पेश किये। 46 वर्षीय पूर्व नौसेना अधिकारी जाधव को पिछले साल तीन मार्च को गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने उन्हें जासूसी और विध्वंसक गतिविधियों के आरोपों में मौत की सजा सुनाई।

भारत ने जाधव मामले को आठ मई को अंतरराष्ट्रीय अदालत में रखा। भारत ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान वियना समझौते का उल्लंघन कर रहा है और जाधव को सबूतों के बिना दोषी करार देने के लिए मुकदमा चला रहा है।

पाकिस्तान ने आईसीजे में कहा कि वियना समझौते में कंसुलर संपर्क से जुड़े प्रावधान आतंकी गतिविधियों में शामिल किसी जासूस के लिए नहीं है।

दोनों पड़ोसी देश इससे पहले 18 साल पूर्व आईसीजे में आमने-सामने थे जब इस्लामाबाद ने उसके एक नौसैनिक विमान को मार गिराने को लेकर अंतरराष्ट्रीय अदालत की मध्यस्थता की मांग की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *