पणजी। भाजपा आज अपने मंत्री विश्वजीत राणे के समर्थन में खुलकर उतर गयी जिनके खिलाफ कांग्रेस ने बंबई उच्च न्यायालय में अयोग्य करार देने की याचिका दायर की है।
भाजपा की गोवा शाखा के महासचिव सदानंद तनावडे ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘भाजपा अपने नेता विश्वजीत राणे के साथ मजबूती से खड़ी है जिनके खिलाफ कांग्रेस ने अयोग्य करार देने की याचिका दायर की है। यह देश में पहला ऐसा मामला होगा जिसमें ऐसे व्यक्ति के खिलाफ अयोग्य करार देने का मामला दायर किया गया है जो विधानसभा का सदस्य नहीं है।’’ इस समय मनोहर पर्रिकर सरकार में मंत्री राणे ने गत 16 मार्च को विधानसभा सदस्य के पद से इस्तीफा दे दिया था जब मुख्यमंत्री ने सदन में बहुमत साबित करने के लिए शक्ति परीक्षण का सामना किया था।
वह बाद में भाजपा में शामिल हो गए और उन्हें राज्य मंत्रिमंडल में जगह दी गयी।
कांग्रेस ने शुक्रवार को बंबई उच्च न्यायालय की गोवा पीठ के समक्ष याचिका दायर कर राणे को आगामी उपचुनाव लड़ने से रोकने की मांग की।
तनावडे ने कहा, ‘‘कांग्रेस पहली हे हार मान चुकी है जो राणे को अयोग्य करार देने के लिए दायर उसकी याचिका से साफ पता चलता है। राणे को उपचुनाव लड़ने से रोकने के लिए याचिका दायर करने का मतलब है कि पार्टी पहले ही समझ चुकी है कि वे विश्वजीत राण के खिलाफ नहीं जीत सकते।’’ भाजपा नेता ने याचिका को कांग्रेस द्वारा दायर एक ‘‘राजनीतिक याचिका’’ बताया जो आगामी चुनाव में वालपोई विधानसभा क्षेत्र में शर्मनाक हार से खुद को बचाना चाहती है।
चुनाव आयोग ने अब तक वालपोई उपचुनाव के लिए तारीखों की घोषणा नहीं की है। यह सीट राणे के इस्तीफा देने के बाद से रिक्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *