तिरूवनंतपुरम।  केरल में पिछले छह महीने में विभिन्न कारणों से वन्य क्षेत्र में कम से कम 41 जंगली हाथियों की मौत हो गयी।

वन मंत्री के राजू ने विधानसभा में लिखित जवाब में कहा कि मौजूदा सूखे की स्थिति और जंगल में पानी और खाने की कमी से किसी हाथी की मौत की खबर नहीं है ।
उन्होंने कहा कि जंगली हाथी, बाघों के हमले में, हथियों के बीच आपसी लड़ाई, बिजली का झटका लगने और अन्य प्राकृतिक कारणों से मारे जाते हैं ।
उन्होंने कहा कि कुल मौतों में राज्य के उत्तरी भाग के वयनाड वन्यजीव अभयारण्य में 14 मामले सामने आए 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *