इस्लामाबाद।  पाकिस्तान ने आज आरोप लगाया कि भारत अपने नागरिक कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सजा का इस्तेमाल देश में अपने ‘‘राज्य प्रायोजित’’ आतंकवाद से ध्यान ‘‘हटाने’’ के लिए कर रहा है।
पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ का भारत के खिलाफ यह आरोप अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत के फैसले के एक दिन बाद आया जिसमें उसने ‘‘जासूसी’’ के आरोपों पर पाकिस्तान की सैन्य अदालत से मौत की सजा पाने वाले 46 वर्षीय जाधव की फांसी पर रोक लगा दी है।
आसिफ ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आईसीजे में भारत की अपील पाकिस्तान में उसके राज्य प्रायोजित आंतकवाद से ध्यान हटाने की कोशिश है। कुलभूषण को राष्ट्रीय सुरक्षा के खिलाफ अपराधों में दोषी ठहराया गया।’’ हेग स्थित आईसीजे के आदेश के बाद पाकिस्तान की ओर से यह पहली प्रतिक्रिया है।
भारत ने गत महीने पाकिस्तान की सैन्य अदालत से जाधव को दी गई फांसी की सजा के खिलाफ आईसीजे का रूख किया था।
इससे पहले पाकिस्तानी मीडिया ने आईसीजे के आदेश पर भारत के दावे को खारिज कर दिया। जियो टीवी ने कहा कि आईसीजे के अधिकार क्षेत्र में पाकिस्तान नहीं आता क्योंकि यह दोनों पक्षों की सहमति से ही मामले पर संज्ञान ले सकता है।
डॉन की ऑनलाइन वेबसाइट ने रोक के आदेश के भारत के दावे के बारे में कोई खबर नहीं दी है। इसी तरह एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने इस मुद्दे पर अपनी खबर में रोक के आदेश का जिक्र नहीं किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *