लखनऊ। तकरीबन 25 साल पहले अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने के मामले में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, केंद्रीय मंत्री उमा भारती, सांसद डॉ. मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार सहित 13 नेताओं पर मुकदमा चलाने के निर्देश के बीच कुछ हिंदू संगठनों ने 23 अप्रैल को अयोध्या में सरयू तट पर संकल्प मार्च निकालने का ऐलान किया है।

हिन्दू समाज पार्टी के कार्यकर्ता राम मंदिर निर्माण के लिए 23 अप्रैल को अयोध्या में संकल्प मार्च निकालेंगे। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी ने बताया कि यह मार्च प्रधानमंत्री को मंदिर निर्माण का अध्यादेश लाने की चेतावनी होगी। प्रधानमंत्री द्वारा अगर विवादित ढांचा विध्वंस दिवस छह दिसंबर तक ऐसा अध्यादेश लाने की कार्यवाही नहीं की गई तो कानून से डरे बिना पार्टी कार्यकर्ता अयोध्या पहुंचकर मंदिर निर्माण कार्य शुरू कर देंगे।

कमलेश तिवारी पार्टी नेता आशू परिहार, उपदेश राणा और गणेश सिंह पहलवान के साथ गुरुवार को गोरखपुर जर्नलिस्ट प्रेस क्लब में संवाददाताओं को इस आशय की जानकारी दे रहे थे। उन्होंने बताया कि 13 अप्रैल को अयोध्या के राम की पैड़ी में 11 हजार युवकों द्वारा पहले मंदिर निर्माण का संकल्प लिया जाएगा और उसके बाद पैड़ी से रामजन्म भूमि तक पैदल मार्च निकाला जाएगा। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर इस सम्बन्ध में जानकारी दी जाएगी। संकल्प मार्च के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर अध्यादेश लाने के विषय में विस्तार से बात करने की कोशिश भी की जाएगी। योगी सरकार में कानून राज के सवाल पर कमलेश ने कहा कि कानून व्यवस्था के मामले में हम योगी जी के साथ हैं लेकिन राम मंदिर निर्माण को हम इससे अलग मानते हैं। रामभक्त अब राम मंदिर निर्माण का इंतजार और नहीं कर सकते, अब यह दुनिया भर में फैले ¨हदुओं की आस्था का सवाल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *