नारायणगढ़ पुलिस थाना में विभिन्न धाराओं के तहत किया गया मामला दर्ज

अम्बाला। सिविल सर्जन डा. विनोद गुप्ता ने बताया कि उन्होंने भरोसेमंद सूत्रों से जानकारी मिली थी कि नारायणगढ़ क्षेत्र की एक महिला दलाल नीतू द्वारा गर्भवती महिलाओं के भ्रूण की लिंग जांच करवाई जाती है और उसके लिए वह 30 हजार रुपए तक वसूल करती है। सूचना के आधार पर डा. विपिन भंडारी, डा. मनदीप सचदेवा और डा. बी.बी. लाला की टीम तैयार करने के साथ-साथ भ्रूण लिंग जांच के लिए एक गर्भवती महिला को भी भरोसे में लिया गया।

इस गर्भवती महिला ने नीतू से सम्पर्क किया और उसने इस महिला को 17 अप्रैल को दोपहर 12:30 बजे नारायणगढ़ बस अड्डे के नजदीक मिलने की बात कही। यहां पंहुचने के बाद इस मामले में शामिल आशीष नामक एक पुरूष दलाल वहां पर मोटरसाईकिल लेकर पंहुचा और वह उसे अपने घर ले गया जहां आशीष की पत्नी महिला दलाल नीतू पहले से ही मौजूद थी। इस दौरान नीतू ने एक अन्य महिला पम्मी को वहां बुलाया और उसके साथ भ्रूण जांच के लिए 30 हजार रुपए की बातचीत की। इसके बाद आशीष उस गर्भवती महिला को मोटरसाईकिल पर बैठाकर सढ़ौरा की ओर रवाना हुआ तथा स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उनका पीछा किया। एक घंटे के बाद जब आशीष उस गर्भवती महिला को लेकर वापिस आया तो विभाग की टीम ने उसे नारायणगढ़ बस अड्डे के नजदीक काबू कर लिया और उसे भरोसे में ली गई गर्भवती महिला के माध्यम से दी गई 30 हजार रुपए की राशि भी बरामद की ली गई। 

सिविल सर्जन ने बताया कि इन्हें काबू करके पुलिस स्टेशन नारायणगढ़ ले जाया गया और उसने बताया कि वह यमुनानगर जिला के सुखनगरी गांव की पम्मी के सहयोग से गर्भवती महिलाओं को सहारनपुर में भ्रूण जांच के लिए लेकर जाती हैं। उसके ब्यान के आधार पर पुलिस ने इस कार्य में शामिल सभी दोषियों के विरूद्ध पीसीपीएनडीटी एक्ट  4, 6, 23 तथा भारतीय दंड संहिता की धारा 420 व 120बी के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *