ज्यादा बच्चा पैदा करने पर मिलते हैं कई सरकारी फायदे…ये हैं वे देश जहां है अधिक बच्चों पर जोर

फ्रांस में अगर किसी परिवार में तीसरे बच्चे का जन्म होता है और इस परिवार का कोई भी शख्स वर्किंग है तो वहां की सरकार इस वर्किंग फैमिलो को पूरे 2 साल 4 महीने के लिए छुट्टी देती है।
भारत में बढ़ती आबादी भले ही सरकार के लिए परेशानी का सबब हो, लेकिन दुनिया के कुछ देश ऐसे हैं जहां जन्म दर काफी कम है। इन देशों की सरकारें लोगों से ज्यादा से ज्याद बच्चे पैदा करने की अपील करती है। यहीं नहीं यहां की सरकारें ज्यादा बच्चे पैदा करने पर लोगों को कई सुविधाएं देती हैं। भारत से ठीक उलट इन देशों के पास संसाधनों की कोई कमी नहीं है लेकिन इनका इस्तेमाल करने वाले लोग कम है। कम आबादी होने की वजह से इन देशों में मैन पावर की भी कमी होती है। हिन्दी अखबार नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के कई देश इस वक्त कम आबादी के समस्या से जूझ रहे हैं। आइए इन देशों के बारे में जानते हैं।

दक्षिण कोरिया
इलेक्ट्रानिक्स और कम्प्यूटर के क्षेत्र में बादशाहत करने वाले इस देश में बर्थ रेट काफी कम है, यहां की सरकार लोगों को चाइल्ड केयर फैसिलिटीज और कई दूसरी सुविधाएं लोगों को मुहैया कराती है, बावजूद इस देश की आबादी में कोई उल्लेखनीय इजाफा देखने को नहीं मिल रहा है। यहां की सरकार ने 2010 में ऐलान किया था कि हर महीने के तीसरे बुधवार को दफ़्तर जल्दी बंद कर दिया जाएंगे ताकि लोग घर जल्दी जा सकें। सरकार का मानना है कि इससे बर्थ रेट बढ़ता है।

सिंगापुर
सिंगापुर की सरकार आबादी को बढ़ावा देने के लिए हर साल 8,380 करोड़ रुपये खर्च करती है। सरकार वर्किंग पैरेंट्स को टैक्स छूट और महिलाओं को लंबे वक्त तक मैटरनिटी लीव देती है। ताकि लोगों को बच्चा पैदा करने में किसी भी किस्म की आर्थिक परेशानी का सामना ना करना पड़े। 2012 में इस देश में एक वीडियो बेहद लोकप्रिय हुआ था इस वीडियो में कहा गया था कि अगर आप देशभक्त हैं तो ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करें।

तुर्की
मुस्लिम बहुत देश तुर्की में भी सरकार जनसंख्या बढ़ाने की कई कोशिशें कर रही हैं। देश के राष्ट्रपति एदरोगेन ने 2016 में देश की महिलाओं से अपील की थी वे कम से कम तीन बच्चे पैदा करें। इससे पहले 2015 में सरकार बच्चे पैदा करने पर सोने के सिक्के देती थी, इसके अलावा महिलाओं के लिए कई इंसेटिव प्लान भी थे। इसमें मां के लिए पार्ट टाइम नौकरी का भी प्रावधान था।

जापान

तकनीक में दुनिया की अगुवाई करने वाला जापान कम आबादी की समस्या से परेशान है। यहां की सरकार बच्चे पैदा करने पर नगद इनाम देती है। अगर किसी जोड़ी को पहला बच्चा पैदा होता है तो सरकार उस परिवार को 1 लाख 10 हज़ार रुपये, दूसरा बच्चा पैदा होने पर 1 लाख 70 हज़ार रुपये, और चौथा बच्चा होने पर इस रकम की चौगुनी राशि बतौर इनाम देती है। भारत के 2.4 जन्म दर के मुकाबले जापान का बर्थ रेट महज 1.46 है, लेकिन यहां जनसंख्या को संतुलित करने के लिए जन्म दर 2.1 प्रतिशत होना चाहिए।

फ्रांस
फ्रांस में अगर किसी परिवार में तीसरे बच्चे का जन्म होता है और इस परिवार का कोई भी शख्स वर्किंग है तो वहां की सरकार इस वर्किंग फैमिलो को पूरे 2 साल 4 महीने के लिए छुट्टी देती है। यहां की सरकार बड़े परिवारों को कई मदद मुहैया कराती है। यह देश अपने जीडीपी का 2.6 फीसदी परिवारों को मदद मुहैया कराने में खर्च करता है। यहां पहले बच्चे के जन्म पर 16 हफ़्ते की मैटरनिटी लीव मिलती है जो हर अगले बच्चे के साथ बढ़ती चली जाती है।

“देश में हिंदूओं की आबादी घट रही है, क्योंकि वे धर्म परिवर्तन नहीं करते”: केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *