नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद महमूद कसूरी ने गुरुवार को कहा कि भारत और पाकिस्तान को क्षेत्र के हित के लिए शांति प्रक्रिया फिर से शुरू करनी चाहिए। 


  कसूरी की टिप्पणी भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान द्वारा जासूसी के आरोप में मौत की सजा सुनाए जाने के बाद दोनों पड़ोसी देशों के बीच बढ़े तनाव के बीच आई है। 

 कसूरी ने ‘सेंटर फॉर पीस एंड प्रोग्रेस’ द्वारा नई दिल्ली में आयोजित एक भारत-पाकिस्तान सेमिनार में कहा कि पाकिस्तान और भारत के रिश्ते बेहद विचित्र हैं। इसे नजरअंदाज करने से काम नहीं चलेगा। हमें इसे ऐसे ही नहीं चलने देना चाहिए।” 

  कसूरी हालांकि जाधव के मुद्दे पर बात करने से बचते रहे, लेकिन उन्होंने साथ ही इस बात पर अफसोस भी जताया कि दोनों देशों के बीच ‘स्थिति अच्छी नहीं है।’ उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान को कूटनीतिक रूप से अलग-थलग किया जाना संभव नहीं है। 


  उन्होंने कहा कि अगर मान लिया जाए कि भारत इसमें सफल हो जाता है तो भी इससे नया संघर्ष पैदा होगा। इसके प्रतिकूल परिणाम आएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *