News-image
यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को मिली भारी जीत के पीछे अमित शाह के माइक्रो मैनेजमेंट का बड़ा रोल माना जा रहा है। लेकिन एक शख्स ऐसा भी है, ज‍िसने यूपी में बीजेपी की जीत को लेकर रणनीति तैयार की। साथ ही नारों के साथ सोशल मीडिया पर पार्टी को लोगों से जोड़ने का काम किया। ये हैं यूपी बीजेपी के प्रदेश महामंत्री सुनील बंसल। इन्होंने पर्दे के पीछे रहकर अमित शाह और पार्टी के लिए स्ट्रैटजी बनाई। अब इन्हें यूपी का अमित शाह भी कहा जा रहा है। बंसल को यूपी में दिखीं 3 कमजोर कड़ियां…
बंसल 2014 में शाह के कहने पर यूपी आए थे। फिर 2015 के पंचायत चुनावों में इन्होंने जमीनी स्तर पर काम किया।
– तीसरा, इस सारी कवायद से बीजेपी को ऊंची जातियों की पार्टी होने की इमेज तोड़ने में मदद मिली। अब पार्टी दावा करती है कि यूपी में मध्‍य और निचले स्‍तर पर वर्कर्स में से करीब 40% ओबीसी और एसटी से हैं। बंसल के मुताबिक, पहले ये आंकड़ा करीब 10% था। आखिरी चुनौती थी उम्‍मीदवारों का चयन, जिसके लिए बीजेपी की आलोचना भी हुई। विशेषकर दूसरी पार्टी से आए नेताओं को टिकट देने को लेकर, जिनकी संख्‍या करीब 80 थी।
अमित शाह के कहने पर यूपी आए थे सुनील
– यूपी चुनावों में बीजेपी को जिताने के लिए 1 लाख से ज्यादा WhatsApp ग्रुप्स को चलाने, सोशल मीडिया टीम को मैनेज करने, रैलियों के मैनेजमेंट में स्टेज लगाने से मंत्रियों और नेताओं की हवाई यात्राओं तक, चुनावों में लगने वाले क्षेत्रीय नारों की पूरी जिम्मेदारी सुनील बंसल के ही पास थी।
– बंसल को अमित शाह ने 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान एबीवीपी के जनरल सेक्रेटरी पद से हटाकर प्रदेश का संगठन महामंत्री बनाया।
जनता से जुड़े मुद्दों को चुनावी नारा बनाने में माहिर हैं बंसल
– बीजेपी के यूपी में बनाए गए चुनावी वॉर रूम में जो लोग काम कर रहे थे, उनके कामों पर अंतिम फैसला बंसल का ही होता था। कंटेंट की बारीकी से जांच और लोगों पर नारे से पड़ने वाले इफेक्ट के रिजल्ट के बारे में भी बंसल को पहले से पता होता था।
– बीजेपी की स्ट्रैटजी के तहत की गई कैम्पेनिंग जैसे परिवर्तन यात्रा, युवा सम्मेलन, महिलाओं के लिए उड़ान कार्यक्रम, पिछड़ा वर्ग सम्मेलन, कमल मेला, कॉलेज सभाएं, किसान महाअभियान, बीजेपी फॉर यूपी, उत्तर देगा उत्तरप्रदेश, अब माफ करो सरकार, यूपी के मन की बात बंसल की मॉनिटरिंग में ही किए गए। इन कैम्पेन को सफल बनाने और पिन टू प्वाइंट तक का सारा काम सुनील बंसल ने ही किया।
बंसल के पास सोने का भी टाइम नहीं रहा
– यूपी में बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने बताया कि जितने कैम्पेन और योजनाएं यूपी में चुनावों को लेकर हुईं, सबकी डीटेल्ड मॉनिटरिंग सुनील बंसल ने ही की।
– हमें तो आश्चर्य आश्चर्य होता है कि वो सोते कब होंगे। वे रात को भी खुद 12-1 बजे हम लोगों को कॉल करके मॉनिटरिंग और काम को लेकर ही बात करते थे। इसके बाद सुबह 5 बजे फिर से उनकी कॉल रैलियों से जुड़े लोगों के पास पहुंचने लगती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *